गीत नवगीत कविता डायरी

10 June, 2010

मुक्तक

दर्द सहती रही जाने किसके लिए ,
आँख रोती रही जाने किसके लिए !
इस जमाने को मेरी जरूरत नहीं ;
सांस चलती रही जाने किसके लिए !!
               ~भावना~