गीत नवगीत कविता डायरी

16 February, 2013

राहें चलती जातीं हैं ..पाँव ठहरते जाते हैं .....

जितना दर्द छुपाती हूँ,घाव उभरते जाते हैं...