गीत नवगीत कविता डायरी

16 February, 2013

हार गए हम  
मौसम की 
बेईमानी से,
देखो न ज़रा 
कैसे मिलता है 
आँख का पानी 
पानी से ...!!